Follow by Email

Wednesday, 2 April 2014

bol terey merey

बोल तेरे मेरे

चूप रह के बहुत कूछ 
खो हम चुके
अब बोल के शायद पा लें कुच्छ


कुच्छ बोल "तेरे हो मेरे ही लिये "
मीठे न हो ; कडवे ही सही
जो बोल मेरे कानो मे पडे
है पुष्प वो "नीमो का ही सही "

दिल करता है तुम अ जाते
साथ बैठते और करते बाते
आंसू तेरे भी कुच्छ होते
जो अश्को से मेरे मिल जाते
फिर हर गिला यु धुल जाता
जैसे शिकवा तो था ही नही

फिर खिल जाती एक नयी सुबह
नभ मे नयी आभा को लिये
लालिमा क्षितीज पे छा जाती
जब हम और तुम फिर मिल जाते

अब बोल के शायद पा लें कुच्छ
चूप रह के बहुत कुच्छ
खो हम चुके

*************************
कुच्छ बोल मेरे है तेरे ही लिये
आ बैठ मेरे संग
सुन ले तू
वो क्षण हमने जो साथ गुजारे
आ बैठ मेरे संग चुन ले तू

ये पल खुशिओ से है जो भरे
वर्षो से इनको है हमने संजोय
हर इक मोती को साथ बैठ
हमने माला मे है ये पिरोय

**********************

कुच्छ बोल तेरे है मेरे ही लिये
ये सोच के मैं खुश होती हूँ
ये बोल जो मिश्री घोले है
इस बोल को यु ही संजोती हूँ

हर दिन आती है नयी सुबह
हर बोल यु चीनी घोले है
रिमझिम रिमझिम और झूम झूम
आशा के मेघ बरसते है

जिस मधुरता से ये बोल भरे
वो रस है अपने जीवन का
वो असमान है पूर्ण अनंत
जिसमे है ये मृदु मधु भरा

**********************


ब बोल के देखो पा हम गये
रुठी हुई उन खुशियो को
जो बंद थी
किसी कमरे मे कही
चुप्पी की चादर ओढे हुये














Chup rah ke bahut kuchh kho hum chuke
Ab bol ke shayad paa len kuchh!!

Kuchh bol tere ho mere hi liye
Meethhe na ho; kadwe hi sahi.
Jo bol mere kano mein pade
Hai pushp woh !!, neemon ka hi sahi..

Dil karta hai tum aa jaate
saath baithate aur karte baaten,
ansoo tere bhi kuchh hote
jo ashko se mere mil jaate.
Phir har gila yoon dhul jaataa
jaise shikwa toh thhaa hi nahi !!

Phir khil jaati ik nayee subah
nabh mein nayee aabhaa ko liye
Lalima kshitij pe chhaa jaati
Jab hum aur tum phir mil jaate..

Shayad!! shayad
Ab bol ke shayad paa len kuchh
Chup rah ke bahut kuchh kho hum chuke..

***********

""Kuch bol mere hain tere hi liye""
Aa baith mere sang soon le tu
Woh kshan humne jo saath gujaare
Aa baith mere sang chun le tu..

Yeh pal khushio se hain jo bhare
Varshon se inko humne sanjoye
Har ik motee ko , saath baith
Humne mala mein hain yeh piroye..

***********

""Kuchh bol tere hain mere hi liye !!!!",????
Yeh soch ke mai khush hoti hoon
Yeh bol jo mishri ghole hai,
Is bol ko yuoon hi sanjoti hoon..

Har din aati hai nayee subah
Har bol yuoo cheenee ghole hai
Rimjhim,rimjhim; aur jhoom jhoom
Asha ke megh baraste hain.

Jis madhurta se ye bol bhare
woh ras hai apne jeevan ka
Woh aasmaan hai poorna anant
Jis mein hai yeh mridu madhu bhara....

******** ******** ********
Ab bol ke dekho paa hum gaye
Roothi hui un khushion ko
Jo bund thhi ;
kisi kone mein kahin
chuppi ki chaadar odhe hue..